Indian Youth

About Anything & Everything

8 Posts

39 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8514 postid : 25

मनोज भार्गव-एक बड़े दिलवाला अरबपति भारतीय

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मनोज भार्गव-कुछ महीनों पहले तक इस नाम को कोई नहीं पहचानता था पर कुछ महीनों पहले एक पत्रिका द्वारा जारी अमेरिका के अरबपतियों की लिस्ट में उनका नाम आने से वो चर्चा में आये.आज दुनिया और भारत में, बहुत से अरबपति मौजूद हैं पर उनमे से बहुत कम ही हैं जो अपनी कमाई का एक बड़ा हिस्सा अपने ऊपर नहीं बल्कि चैरिटी में खर्च करने का सोचते हैं.ऐसे ही कुछ नामों में से एक नाम हैं मिस्टर मजोज भार्गव जिनका बनाया हुआ energy drink “5 -hour energy ” अमेरिका के energy shot बाज़ार के 90 % पर राज करता है.
मनोज भार्गव लखनऊ में पैदा हुए और अमेरिका में पले-बढे.पर उनकी औपचारिक शिक्षा पूरी नहीं हो पायी थी.उन्होंने प्रिंसटन युनिवेर्सिटी को 1 साल में ही छोड़ दिया था.इसके बावजूद भी उन्होंने अपनी मेहनत से आज इस मुकाम को हासिल किया है.
मिस्टर भार्गव ने कहा है की वो आने वाले 10 सालों में लगभग 5000 करोड़ रुपए भारत में चैरिटी के लिए खर्च करेंगे.उनका कहना है की वो अपने ऊपर ज्यादा पैसा खर्च करने में विश्वास नहीं रखते शायद इसीलिए उन्होंने अपनी कमाई का 90 % हिस्सा चैरिटी में खर्च करने का फैसला किया है.जो की आजकल कम ही देखने को मिलता है.
भारत में इतने अरबपतियों के मौजूद होने के बावजूद यहाँ की जनता का बहुत बड़ा हिस्सा गरीब है.अगर यहाँ के सभी अमीर उद्योगपति मिस्टर मनोज भार्गव कि तरह,अपनी कमाई का एक बड़ा हिस्सा ऐशो-आराम पर खर्च न करके चैरिटी के लिए खर्च करने लग जाये तो शायद गरीबी को काफी हद तक कम किया जा सकता है.
मिस्टर भार्गव के माध्यम से हम एक और समस्या से रूबरू हो सकते हैं.वो समस्या है सही मायनों में शिक्षा प्राप्त करने कि.मिस्टर भार्गव ने खुद भी शिक्षा पूरी नहीं कि और अगर हम देखे तो ऐसे कई नाम हैं जिहोने औपचारिक शिक्षा अधूरी रहने के बावजूद दुनिया भर में अपना नाम रौशन किया है फिर चाहे वो bill gates हो या mark zuckerberg. और लाखों लोग जो हर वर्ष शिक्षा की बहुत बड़ी डिग्री प्राप्त करते हैं,उनमे से बहुत से उतने बड़े नाम नहीं बन पाते हैं.



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

15 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

कुमार गौरव के द्वारा
April 18, 2012

नमस्ते प्रतीक भाई (आपने प्रभु श्रीराम के बारे में जो अपना लेख लिखा है – “मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की वकालत” वहां कमेंट्स पोस्ट नहीं हो पा रहे हैं इसलिए उसपर अपने विचार यहाँ दे रहा हूँ) बहुत श्रद्धा और भक्ति के साथ आपने हमारे आराध्य श्रीराम के बारे में अपनी बातें कहीं. युवा आप भी हैं युवा मैं भी हूँ. आपका अभिनन्दन करता हूँ. इस लेख के द्वारा आपने उन अधार्मिक लोगों को सही प्रत्युत्तर दिया जो हिन्दू धर्म के बारे में जानकारी नहीं रखते हुए अनर्गल प्रलाप करते हैं और लोगों को दिग्भ्रमित करने का प्रयास करते हैं. आजकल एक फैशन हो गया है की अगर इंसानों की कमियां छुपानी हों तो उनकी तुलना भगवान से कर दो और कहो की – अरे देखो भगवान ने भी तो यही किया था फिर अगर हम ऐसा करें तो क्या गलत है? आजकल मनुष्य धर्म से विमुख होता जा रहा है ये सब उसी का परिणाम है. जो लोग नैतिकता भूल चुके हैं उन्हें धार्मिक विषयों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं. दरअसल ऐसी बातें अल्पबुद्धि लोगों के द्वारा अतार्किक रूप से की जाती हैं. ऐसी बातों का जवाब देकर उन्हें मूल्य/महत्त्व नहीं दिया जाना चाहिए.

    prateekraj के द्वारा
    April 19, 2012

    गौरव भाई, समर्थन के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद एक गलती के कारण उस पोस्ट पर कमेन्ट नहीं हो पा रहे थे उसके बाद भी आपने अपने विचार सामने रखे उसके लिए धन्यवाद और आपको अतिरिक्त कोशिश करनी पड़ी उसके लिए क्षमा चाहता हूँ.

dineshaastik के द्वारा
April 17, 2012

प्रतीक  जी एक  लिंक  दे रहा हूँ, कृपया इसे आवश्य ही पढ़कर प्रतिक्रिया दें। http://sohanpalsingh.jagranjunction.com/2012/04/14/%E0%A4%97%E0%A4%BE%E0%A4%81%E0%A4%A7%E0%A5%80-%E0%A4%A4%E0%A5%82-%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A4-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AA%E0%A5%88%E0%A4%A6%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%80-%E0%A4%95/

    prateekraj के द्वारा
    April 17, 2012

    जी जरूर दिनेश जी लिंक देने के लिए धन्यवाद

follyofawiseman के द्वारा
April 13, 2012

अगर जिंदा रहना चाहते हैं तो मेरे इस ब्लॉग में दिए warning पे ध्यान दीजिएगा – http://pawansrivastava.jagranjunction.com/2012/04/13/%e0%a4%85%e0%a4%97%e0%a4%b0-%e0%a4%9c%e0%a4%bf%e0%a4%82%e0%a4%a6%e0%a4%be-%e0%a4%b0%e0%a4%b9%e0%a4%a8%e0%a4%be-%e0%a4%9a%e0%a4%be%e0%a4%b9%e0%a4%a4%e0%a5%87-%e0%a4%b9%e0%a5%8b-%e0%a4%a4%e0%a5%8b/

rahulpriyadarshi के द्वारा
April 12, 2012

ऐसे लोगों के पास ही धन का सही सदुपयोग होता है..धन के साथ पुण्य भी कमाना एक बड़ी दुर्लभ चीज होती है…ऐसे लोग समाज के लिए एक आदर्श हैं,श्री मनोज भार्गव को नमन…और आपने इस आलेख के माध्यम से उनकी चर्चा की,आपको साधुवाद. :)

    prateekraj के द्वारा
    April 12, 2012

    राहुल जी, अपना समय देने के लिए धन्यवाद हम अक्सर अपने देश की बुराइयों पर ही चर्चा करते रहते हैं.जबकि अगर देखे तो अभी भी बहुत से लोग समाज के लिए काम कर रहे हैं.मैंने बस कोशिश की है ऐसे लोगो के नामों को प्रचारित करने की.

dineshaastik के द्वारा
April 12, 2012

प्रतीक  जी ऐसे लोग  वास्तविक रूप से वंदनीय हैं। जानकारी देने के लिये आभार…

    prateekraj के द्वारा
    April 12, 2012

    दिनेश जी, अपना समय देने के लिए धन्यवाद हम अक्सर अपने देश की बुराइयों पर ही चर्चा करते रहते हैं.जबकि अगर देखे तो अभी भी बहुत से लोग समाज के लिए काम कर रहे हैं.मैंने बस कोशिश की है ऐसे लोगो के नामों को प्रचारित करने की.

ajaydubeydeoria के द्वारा
April 11, 2012

कौन कहेगा कि.मिस्टर भार्गव ने शिक्षा पूरी नहीं की. शिक्षा का उद्देश्य क्या होता है ? चरित्र निर्माण. और भार्गव जी ने जो किया है वह अनुकरनीय है. सार्थक लेख……लिखते रहें…..बधाई…..

    prateekraj के द्वारा
    April 11, 2012

    सही कहा आपने अजय जी, सधन्यवाद

मनु (tosi) के द्वारा
April 11, 2012

प्रतीक राज जी !सही जानकारी सही समय पर … काश के सब अमीर ऐसे ही हो जाएँ … अच्छा लेख शुभकामना

    prateekraj के द्वारा
    April 11, 2012

    अपने विचार व्यक्त करने के लिए धन्यवाद मनु जी ! उम्मीद है कि किसी दिन मनोज भार्गव और बिल गेट्स जैसे और भी बनने लगेंगे

yogi sarswat के द्वारा
April 11, 2012

सही मायनों में शिक्षा प्राप्त करने कि.मिस्टर भार्गव ने खुद भी शिक्षा पूरी नहीं कि और अगर हम देखे तो ऐसे कई नाम हैं जिहोने औपचारिक शिक्षा अधूरी रहने के बावजूद दुनिया भर में अपना नाम रौशन किया है फिर चाहे वो bill gates हो या mark zuckerberg. और लाखों लोग जो हर वर्ष शिक्षा की बहुत बड़ी डिग्री प्राप्त करते हैं,उनमे से बहुत से उतने बड़े नाम नहीं बन पाते हैं. बिलकुल ठीक कहा मित्रवर !

    prateekraj के द्वारा
    April 11, 2012

    योगी जी, अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद और ये समस्या सिर्फ भारत में ही नहीं पुरे विश्व में है.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran